पंजाब की लोकनाट्य नकल चमोटा शैली, लोक नृत्य, और मालवा का कबीर गायन

पंजाब का लोक नृत्य, लोकनाट्य शैली, चमोटा, मालवा, कबीर, गायन, धर्म और संस्कृति

वैसे यह नृत्य निर्देशकों द्वारा परिकल्पित नृत्य है समूहगत रचनाशीलता का परिणाम समझे जाने वाली नृत्य की यह शैली अपनी गेयता और संगीतात्मकता के चलते जन-जन में लोकप्रिय रही है। ‘गिद्दा’ नृत्य पंजाबी के गिडदा से बना है जिसका अर्थ होता है ‘थपथपाना’। स्त्रीयों के त्वरित पद और हस्त संचालन से होने वाली ‘थपथपाहट’ गिद्दा की विशेषता है। इसमें दैनिक उपादानों उदाहरण के रूप में पीतल की थाली, घड़े, बाल्टी से भी ध्वनियां निकालने की परिपाटी है। फुलकारी से बनी ओढ़नी ओढ़े सगीफुल्ल माथे पर सजाये पंजाबी स्त्रियां हाथ में झलने वाला पंखा (पंखी) लिए पंजाब के ग्रामीण परिवेश के सारे बिम्ब समाहित कर ऐसी बोलियां डालती हैं कि दर्शक रोमांचित हो उठते हैं। यों तो लूडी और सामी अन्य पंजाबी नृत्यों के प्रशंसक बहुतेरे हैं पर कार्यक्रम पुरूषों के मलवई गिद्दा के प्रदर्शन के साथ ही सम्पन्न हो गया। पारंपरिक लोकधुनों पर आधारित मलवई उपबोली में गायी गयी गांव की आत्मा को छूती बोलियों में किसानों के हास-उल्लास का अभिनंदनीय प्रदर्शन किया गया। दोआबी, माझी और मलवई उपबोलियों वाली इन प्रस्तुतियों में पंजाब की माटी की सौंधी गंध और सतुलज और व्यास नदियों का सा प्रवाह दृष्टिगत हुआ। ढोल, ढोलक, चिमटा, सारंगी, बगदू जैसे पारंपरिक वाधों के साथ-साथ सप्प( सांप ),काटो (गिलहरी) और खुंडा जैसी कलात्मक वस्तुएं हाथ में लिए नर्तकों ने दर्शकों को स्फुरित कर दिया। किसान के कठिन जीवन के संघर्ष की अभिव्यक्ति वाली प्रस्तुति की जितनी प्रशंसा की जाये उतनी कम ही होगी। सिंगारा सिंह से हमें पता चला कि श्री तारसेम चंद्र कलहरी के निर्देशत्व में संचालित उनकी नृत्य अकादमी में 800 से अधिक सदस्य हैं। जो हाल ही में न्यूजीलैण्ड सहित 28 देशों में अपने नृत्य कौशल का परचम लहरा कर आये हैं। मनसा जिले के झण्डाकलां गांव के सभी देहाती बालक बालिकाएं इस अकादमी में अपनी कला को निखारने के लिए आते हैं। सात साल से लेकर हर उम्र के प्रतिनिधि कलाकार अकादमी के सदस्य हैं जो अन्यंत्र भी कार्य करते हैं। पंजाब की पांरपरिक लोकनाट्य शैली और लोकनृत्यों को मूल स्वरूप में सहेजने का उत्तरदायित्व निभाती पंजाब संगीत नाटक अकादमी और कलहरी अकादमी का अवदान अनुकरणीय है।

 

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

15 − five =

Comments

  1. दयाराम सारोलिया says:

    बहुत बहुत साधुवाद आपको

  2. हरदयाल सिंह थुही says:

    मैड़म दिशा जी, हमारी मंडली की ओर से भोपाल में जो लोकनाट्य नकल  चमोटा  शैली में ‘हीर रांझा ‘ की पेशकारी की गई उसकी आपने जो समीक्षा की है वो काबले तारीफ है। किसी दूसरे प्रदेश की लोक कला के बारे में इतनी गंभीर समीक्षा हर किसी के वस की बात नहीं होती।  छोटी से छोटी बात को भी आपने पकड़ा है। इसके लिए आपका हारदिक धन्यवाद।

    हरदयाल सिंह थुही

  3. जगजीत says:

    बहुत रोचक जानकारी
    जगजीत

  4. सिंगारा सिंह says:

    अति उत्तम
    सिंगारा सिंह