बिहार का गोड़ऊ लोकनाट्य, बुंदेली लोकगान और असम के लोकनृत्य

बिहार का गोड़ऊ लोकनाट्य, बुंदेली लोकगान और असम की कथक गुरू मरामी मेंधी लोकनृत्य शैली देवधानी और ओझा पाली


इंसुरी की फाग गायकी और फड़बाजी से प्रभावित उनका बुंदेली संवादात्मक गान मंच से ही दर्शकों से तादात्म्य स्थापित करता है। बुंदेली के लोक नृत्य राई के प्रदर्शनों में संगतिया के रूप में अपनी गायकी को मांजने वाले श्री ठाकुर के लोकगान में इसी लिए लोक जीवन का सतत प्रवाह दर्शित होता है। नदिया पेले पार ढोल गीत बुंदेली की मिठास पगी सहजता से रसमय साक्षात्कार कराता है तो सांसी सांसी तो बता मन के भीतर उतरता जाता है। बुंदेली लेद, गम्मत, आल्हा गान, ढोला मारू और राम कलेवा से लोकमानस, लोक विश्वास और लोकदर्शन को उद्घाटित करते रहे श्री ठाकुर नये प्रयोग करने से भी नहीं पीछे हटते। जैसे राई में बजने वाली नगाड़िया लोक वाद्य उनके लोकगान में उत्साह आल्हाद की सर्जना करते हुए ढोलक का स्थान ले लेती है। अनुज कला मण्डल के तत्वावधान में वर्तमान में बुंदेली संस्कृति की छटा बिखेरने वाले श्री ठाकुर पाश्चातय संस्कृति के अंधानुकरण से क्षुब्ध हैं और दुअर्थी शब्दों वाला डीजे संगीत उन्हें विचलित करता है। लोकसंस्कृति के संवर्धन व संरक्षण के लिए किए जा रहे सरकारी प्रयासों की सराहना करते हुए श्री ठाकुर कहते हैं कि हिन्दी के माथे पर बिन्दी बुंदेली की धर गये ईसुरी जग में जौ काम अच्छौं कर गये। बुंदेली के खाना खाओं, पैरवों और गावो अब इसी में जीवन खपाना है। इत चम्बल, उत नर्मदा इत यमुना उत टोंस क्षेत्रों में विस्तारित बुंदेली भाषा की व्यापकता को अपनी मंचीय प्रस्तुतियों के माध्यम से दर्शकों तक विशिष्ट शैली में पहुंचाने वाले श्री राजकुमार सिंह ठाकुर के साथ हारमोनियम पर दीदचंद, झींका (झांझ) पर प्रहसिंह और सुल्तान सिंह ढोलक पर अमित, मंजीरे पर नारायण कुर्मी और नगाड़ी पर राकेश अहिरवार का योगदान सराहनीय रहा।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

eighteen − 6 =

Comments

  1. Marami Medhi says:

    Excellent write up.
    Thank you so much for the write up and video.
    Excellent reporting.

    Regards
    Marami Medhi 🙏

  2. उदय सेवक धावन says:

    वाह बहुत ही सुन्दर

  3. प्रभु बिहार says:

    आपने तो हम लोगों का नाटक का इतिहास लिख डाला बहुत अच्छा लगा अब तक तो हमारी शैली को कोई इतना प्यार नहीं किया जितना आप ने दिया है

  4. Dr Manish Sharma says:

    Bihar me hudka naach ke rup me ye famous dance form lupt ho raha hai isme purush hi mahila patra ban nachte accha laga

  5. Dr Anil pathak says:

    Very nIce…OLD Traditions must be preserved….well carried out..

  6. वीरेन्द्र सिंह says:

    आपने बिहार का गोड़ ऊ नाच का बहुत ही सुंदर वर्णन किया है परन्तु मै जहाँ तक समझता हूँ ये गोड़ जाती और उनका नाच सिर्फ बिहार का कहना ठीक नही होगा क्योकि ये गोड़ जाती बिहार के अलावा पूर्वी उत्तर प्रदेश में भी अच्छी खासी तादाद में पाये जाते हैं हमारे आजमगढ़ और मऊ जिले में खूब है और इनका हुरका नाच बहुत ही शौक से लोग देखते है हमारे गाँव के देवीजी के मन्दिर पर साधारणतया हर मौके जैसे मुंडन शादी और पूजा पर खूब देखने को मिलता है हमारे घर के पीछे काफी संख्या गोड़ लोगों की है आप ने लिखा है कि ये सिर्फ पुरुष ही करते है परन्तु हमारे घर के पीछे एक गोड़ीन थी उसके जैसा गोड़ऊ नाच करने वाला हमने नहीं देखा जिसका पिछले वर्ष ही देहांत हो गया परन्तु आपका लेख व गोड़ो का प्रोगाम देख कर गाँव की याद ताजा हो गई ।