लोकमतः राजा विक्रमादित्य का शनि प्रकोप चम्पावती (चकल्दी) में शांत

रेहटी के वनाच्छादित वनारक्षित लोहापठार में घोड़सुन बाबा के प्रति गोंड लोगों की अपार आस्था

चकल्दी में कोने-कांतर में चंपावती नगरी की लोक में विद्यमानता के अनुभावी बनने  के उपरांत हमारे मन में वनमय क्षेत्र में घोड़ासुन बाबा के दर्शन की अभिलाषा जागी।चकल्दी वालों को राम राम कह हम पुनः कोल्टर की सड़क पर आ गए , आगे चकल्दी से लोहापठार  मार्ग  में वनों से विस्तारण के बीच हम आदिम संस्कृति के बिम्बों को समेटते रहे। गौधूलि बेला में गाय घर लौट रहीं थीं। सूरज की लालिमा में पंछी भी घर लौटने लगे थे। गाँव के हवा-वृक्ष, लता-पत्ते, पशु-पक्षी सभी में  अभ्यस्त जीवन सी हलचल थी। हम 15 किलोमीटर दूर भोपाल चकल्दी मार्ग पर लोहा-पठार की ओर बढ़ रहे थे। चकल्दी से सटे रेहटी वन आरक्षित क्षेत्र के लोहापठार के घने दुर्गम जंगल में घोड़ासुन बाबा का वास है हमे बताया गया था कि वनस्थ गोंड जाति के अतिरिक्त यहां किसी अन्य की प्रविष्टि असंभव है लेकिन चंपावती नगरी के अन्वेषण से उत्साहित हमारी दृष्टि ऐसे अंचल को टटोलने में किंचित भयभीत नहीं थी जहाँ विक्रमदित्य के घोड़े ने प्राण उत्त्सर्ग किये थे। हमने प्रण कर रखा था कि हम वहां अवश्य जायँगे। हमें  बताया गया था कि  धुर्वे, उइके, बारिबे, पल्लाम, कड़ोड़िया, सरेआम, गोत्रधारी गोण्ड समाज घोड़ासुन बाबा को आराध्य के रूप में मानता है। अब हम रेहटी के आरक्षित वन प्रक्षेत्र  (1150 वर्ग किमी. विस्तारित) में आने वाले लोहा पठार के घने जंगल जो  निष्पर्यन्त हैं में प्रविष्ट हो चुके थे। रातापानी अभ्यारण के अधीक्षक श्री प्रदीप त्रिपाठी जी ने हमें सावधान किया था कि ओबेदुल्लागंज वन प्रक्षेत्र के रातापानी (823 वर्ग किमी. विस्तारित) अभ्यारण्य के वनारक्षित क्षेत्र से अपेक्षाकृत कहीं अधिक लोहापठार  जंगल प्रकंपित करने वाला है। पर मन स्थिर नहीं होना चाहता था इसलिए अनचीन्हे रास्तों पर यात्रा करने को उतावला था।

गोंड आदिवासियों द्वारा घोड़ासुन बाबा से वन्य जीवों से सुरक्षा की आश्वस्ति, लोहापठार का दुर्गम घना जंगल और वनराज का पगचिह्न

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

nineteen − 10 =

Comments

  1. Rajendra Kumar Malviya says:

    दीदी सादर चरणस्पर्श, दीदी आपने महाराजा विक्रमादित्य से जुड़ी प्राचीन चम्पावती नगरी और आधुनिक चकल्दी शहर को इतिहास के पन्नो से लाकर एक बार फिर पुनर्जीवित कर दिया। आपके इस प्रयास के लिए मेरे पास आपकी तारीफ के लिए शब्द नही है आदरणीय दीदी। मैं हमेशा आपके लेख की प्रतीक्षा करता हूँ।