तीर्थ की सात्विक शक्ति से सराबोर घृष्णेश्वर ज्योतिर्लिंग मंदिर

घृष्णेश्वर ज्योतिर्लिंग घृष्णेश्वर ज्योतिर्लिंग निःसन्देह हम सभी का आंतरिक पक्ष है संस्कृति और बाह्य पक्ष सभ्यता। अनजाने सत्य को जानने की उत्कंठा ही हमारी स्वभावगत विशेषता है। संस्कृतियों और सभ्यताओं की विपुल निधि से तादात्म्य स्थापित करने की लालसा ही तो हमें यायावर बनाती है। यात्रा का प्रारम्भ सो इस बार लॉंग वीकेण्ड टूर के अन्तर्गत महाराष्ट्र स्थित द्वादश ज्योतिर्लिंगों में परिगणित दिव्य शिव तीर्थों की यात्रा का कार्यक्रम बना। श्री घृष्णेश्वर, श्री भीमाशंकर और श्री त्र्यम्बकेश्वर ज्योतिर्लिर्गों के परम मंगलमय, चिन्मय और अलौकिक स्वरूप की दर्शनाभिलाषा में हम यात्रा पर निकल पड़े। भोपाल से 518 कि.मी. दूर वेरूल अथवा …

Continue Reading