गुजरात की भवाई लोकनाट्य शैली, राजस्थान की मांगणियार गायकी

लोकगाथाएं लोक के पुराण हैं इसीलिए इतने वर्षों के बाद भी उनका अस्तित्व विद्यमान है। 13वीं सदी के उत्तरार्ध और 14वीं सदी के पूर्वार्ध में उत्तर गुजरात में अद्भूत लोकनाट्य शैली भवाई का मंचन भोपाल स्थित जनजातीय संग्रहालय के प्रेक्षागृह में देखने के उपरांत उरोक्त पंक्तियों की पुष्टि स्वतः ही हो गई। मोरबी (गुजरात) से पधारे विवेकानंद भवाई मण्डली  के 70 वर्षीय श्री हरिलाल पैजा के पुत्र प्रकाश के निर्देशन में 25 लोक कलाकारों के मन हरने वाले पारंपरिक भावमय प्रदर्शन ने हमें भावविह्वल कर दिया। रावत रनसिंह शीर्षक वाले भवाई लोकनाट्य में मोरबी के राजा रावत रनसिंह का मोजड़ी प्रेम प्रसंग, …

Continue Reading

दिव्य प्रभास क्षेत्र में श्री सोमनाथ ज्योतिर्लिंग : शिव का शीर्षस्थ धाम

द्वादश ज्योतिर्लिंगों के परिगणन में शीर्षस्थ क्रम श्री सोमनाथ ज्योतिर्लिंग श्री सोमनाथ ज्योतिर्लिंग आध्यात्मिक यात्रा के आठवें पड़ाव हेतु, द्वादश ज्योतिर्लिंगों के परिगणन में शीर्षस्थ क्रम में प्रतिष्ठित श्री सोमनाथ आदि ज्योतिर्लिंग की दर्शनाभिलाषा लिए हमने गुजरात के शाश्वत संस्कृति तीर्थ सौराष्ट्र के दिव्य प्रभास क्षेत्र में सर्वदुःखप्रमोष, सदाशिव के शरणागत् होने का मानस बनाया। भोपाल से राजकोट तक की लगभग 800 कि.मी. का यात्रा (SH-18/NH-47) राजमार्गों पर 13 घण्टे की समयावधि में सम्पन्न होनी थी, इसलिए यात्रा का प्रारम्भ अल सुबह ही हो गया। यात्रा की शुरुआत, माही नदी का विस्तार और अनास नदी अपनी सहायिका मोड के साथ ग्रीष्म …

Continue Reading