धरोहर पर्यटन-देवबल्ड़ा मंदिर संकुल के शिवमंदिर का पुनर्निर्माण संपन्न, विष्णु मंदिर का पुर्नविधान प्रारम्भ

देवबल्ड़ा में शैवाचार्यों के लिए शैवमठ, (जूनी) प्राचीन बीलपान के जंगलों में अनेक जैन प्रतिमाएं भग्नावस्था में

जूनी बीलपान में खेड़ापति हनुमान मंदिर, तीर्थंकर जैन प्रतिमाएँ

भांति भांति के आकाशगामी पक्षी, थकहार कर ध्वंसावशेषों  पर विराजते चहकते फुदकते मन को लुभा रहे थे। मोर, तोते, पेंगा और कर्बर अपनी अभयस्त दैनंदिनी में मगन थे। प्रकृति की मंजुल सुषमा में विहंसती पर्वत श्रृंखलाओं को निरखते हुए हम मन ही मन सोचने लगे थे कि इन्हीं अरण्यों में ऋषि मुनियों ने वेदाध्ययन कर आरण्यक रचे। युग संधियों के बीच सार्थक संवाद की स्थिति निर्मित  हुई। डॉ रमेश यादव भी देवबल्ड़ा में समुचित संसाधनों वाली विशद अध्ययनशाला के अस्तित्व की बात स्वीकारते हैं जिनमें गहन अध्यन विश्लेषण के पश्चात् ही प्रतिमा निर्माण सम्बन्धी सैद्धांतिक स्वीकृति दी जाती रही होगी। वस्तुतः मालवा में शैव मठों की व्यवस्था प्राचीन काल से रही है। सामने खड़े जीवन सिंह जी से ज्ञात हुआ कि यहाँ आने वाले पड़ियारों को भैरुं महाराज, भीलटदेव, दुर्वासा ऋषि, खवाजादेव और घाटें वाले महाराज आदि शरीर में आते हैं। शैवमठों में प्रमुख मठाधीशों के नामों में  ज्येष्ठजराशि, मौनिराशि, दुर्वासराशि, केदारराशि आदि नाम प्राप्य होते हैं। हम कह सकते हैं कि वेद प्रतिपादित शैवमत देवबल्ड़ा की बैसाल्ट की मूक चट्टानों पर ऐसे सिरजा गया है कि धुंधलेपन के बाद भी इनकी विशिष्टता अक्षय बनी हुई  है। यह स्थान सिद्ध है इसमें कोई संदेह नहीं, यहां हमारी तरह आपको भी पल प्रतिपल यह प्रतीति होगी कि शक्ति क्रियान्विता होकर शक्तिमान के साथ यहीं  प्रकट विलास कर रही हैं। परम योगीश्वर की अभिनंदनीय धरा से प्रस्थान करने पर  मार्ग में देवबल्ड़ा के मैदानी भाग में (जूनी) प्राचीन बीलपान के जंगलों में खेड़ापति हनुमान मंदिर की पुरातन प्रतिमा और जीर्णोद्धार के बाद अर्वाचीन स्वरूप ले चुके मंदिर  में दर्शनार्थ रूक गये। यहां घने जंगल में अनेक जैन प्रतिमाएं भग्नावस्था में सर्वत्र दिखाई दीं। जैन देवालयों के ललाटबिम्ब के मध्य देवकोष्ठ में लगने वाली सर्पफणा चतुर्भुजी स्त्री प्रतिमा (पार्श्वनाथ देवी) अम्बिका, तीर्थंकर  प्रतिमा-आजानुबाहू, वक्षस्थल पर श्रीवत्स के चिन्ह वाली तीर्थंकर प्रतिमा यक्षी-यक्षिणी, पार्श्वनाथ प्रतिमा के भग्नावशेष देख यह अनुमानना आसान हो गया था कि यहां कभी  भव्य जैनालय की स्थापना रही होगी।देवबल्ड़ा का भ्र्मण निःसंदेह पारिस्थितिकी पर्यटन ,ग्रामीण पर्यटन और धार्मिक पर्यटन की दृष्टि से सर्वोत्तम है,पर्यटन के नीतिनिर्धारकों को इस दिशा में गंभीरता से विचार करना होगा।

सोनकच्छ अर्थात स्वर्णकच्छ, सिद्धपुर (सीहोर) का स्वयंभू श्री सिद्धिविनायक गणेश धाम

देवबल्ड़ा को नैनों में बसाकर लौटे तो मार्ग में सिद्धपुर (सीहोर) के स्वयंभू श्री सिद्धिविनायक गणेश धाम के दर्शन लाभ की अभिलाषा लिए मोटर वहीं मोड़ दी। सीवन नदी के निकट बांस के झुरपुटों के बीच से  गुज़रते हुए हमें पेशवा कालीन गणेश धाम का संकरा मार्ग चिंतामन गणेश, जो सर्व हैं ,शिव हैं, शर्व हैं, विष्णु हैं और शक्ति भी हैं सर्व जनगण के देवता विघ्नविनाशक गजानन, के समक्ष ले आया था। इसके संदर्भ में चिंतक और अनुसंधानकर्ता श्री शशिकांत लिमऐ जी से हमें पता चला था कि सोनकच्छ जो कि देवबल्ड़ा से समीप ही स्थित है कभी स्वर्णकच्छ के रूप में जाना जाता था। गुजरात के बड़ौदा, उज्जैन, शाजापुर और देवास तक विस्तारित सोनकच्छ की सीमा में गंधर्वों और यक्षों की बसाहट गंधर्वपुरी के रूप में मिलती है। गंधर्वपुरी भी देवबल्ड़ा के निकट ही स्थित है। वे चार कच्छों के बारे में बताते हैं कि भृगुकच्छ जिसमें भरुच गुजरात, महाराष्ट्र का कोंकण पट्टीवाला क्षेत्र सम्मिलित है, गुजरात का कच्छ क्षेत्र, नागकच्छ जिसमें महाराष्ट्र का अमरावती, छत्तीसगढ़, हिमाचल प्रदेश और नागालैंड के परिक्षेत्र आते हैं और स्वर्णकच्छ (सोनकच्छ) को गणनित माना  गया है। अपने कथ्य को विस्तार देते हुए वे सोनकच्छ को सोने के कमल से पूरित धरा अभिहीत करते हैं। लिमऐ जी के अनुसार सीहोर (सिद्धपुर) का स्वयंभू श्री सिद्धिविनायक गणेश धाम, 2100 वर्ष पूर्व की विक्रमादित्य कालीन प्रतिमा के लिए प्रख्यात  है। पेशवा कालीन इस मंदिर में विक्रमादित्य द्वारा स्थापित की गई स्वयंभू गणेश प्रतिमा प्रतिष्ठित है।

सीहोर का स्वयंभू श्री सिद्धिविनायक गणेशधाम, पेशवाकालीन मंदिर में विराजे विक्रमादित्य कालीन गणपति, सीवन नदी और बाँस के झूरपुटे

हमने सीहोर के गोपालपुर गाँव में स्थित स्वयंभू श्री सिद्धिविनायक गणेश धाम  का दर्शन किया। इस मंदिर और सीहोर के संबंध में विस्तार से फिर कभी चर्चा करेंगे, फिलहाल लाला खेड़ी के गजेंद्र  सिंह जी और तालोद के कुमेर सिंह द्वारा गायी गणेश वंदना सुनाकर यात्रा को यहीं विराम देते हैं।

6 / 6आगे

Comments

  1. O.P. Mishra, Bhopal says:

    Madamji, excellent matter.you have covered all important historic sites around deobadla.your matter is very useful to local administration who needs historical background regarding cultural and folk songs bhakti feet remind the continuity of the religion. Ramesh Yadav has done an excellent job and justice for the paramara site Devbadla. Dr. Tejsingh Sendhava was a devoted person who did his Ph.D. and still, he is keen on the historic and cultural development of this region. You deserve congratulations and appreciations to work and takin interviews even with the scholar’s but also who is associated with this region. The source of the river and its information is also useful.on the centenary of Dr v s Wakankar this remembers his visit to the region.nature and social study will help for future generations.thanks for giving the details of temple architecture and information of the unique sculptures of devbadla.good information for new archaeological researchers. Thanks.

  2. ललित शर्मा, महाराणा कुम्भा इतिहास अलंकरण, झालाबाड़ (राजस्थान) says:

    अभिमत

    लोककथा, इतिहास और पर्यटन पर केन्द्रित ‘ब्लाग’ ‘देवबल्ड़ा’ क्षेत्र का वर्णन ब्लाग रोड मैप लेखिका दिशा अविनाश शर्मा (भोपाल) की नवीनता का ऐसा प्रतिमान है जो मालवा के लोक साहित्य, पर्यटन को महत्वपूर्ण दिशा देता है।
    यहां के मन्दिरों के स्थापत्य के पुराकला वालें भागों को उन्होंने गहनता से छुवा है। उन्हें पढ़कर मन्दिर विज्ञान को समझा जा सकता है। क्षेत्रीय धरोहरों की स्थापना, कला, गाथायें तथा वहां की हरितिमा प्रकृति को पढ़कर पर्यटक दौड़ पड़ता हैं। अनेक लोक गायकों की भजनावलियों के साथ पुराविदों के साक्षात्कार एवं देवबल्ड़ा के विहंगम दृश्य ब्लाग को मनोरम बनाते हैं। यह क्षेत्र परमारों का कलात्मक तीर्थ क्षेत्र रहा। डाॅ. वाकणकर ने इसको जग जाहिर किया तथा आज के दौर में दिशा शर्मा ने ब्लाग के माध्यम से हमारे समक्ष प्रकाशित किया। उन्होंने मालवा भूमि के जिन भी स्थलों के ब्लाग लिखे उनमें लोक के महत्व के साथ पर्यटन, पर्यावरण तथा पुराकला को जोड़ा है। वे सदैव आगे बढ़ती रहें- मालवा की अर्चना में निरत रहें – यहीं समय से कामना है।

  3. जगदीश भावसार, शाजापुर says:

    भूली बिसरी लोककला, स्थापत्य, प्रशासक -परंपरा, पर्यावरण एवं पर्यटन संभावना की पथ प्रदर्शक चिंतनशील प्रस्तुति । मंगलकामनाएं!

  4. आर सी ठाकुर, महिदपुर says:

    👏👏👏👏👌बहुत ही अच्छा!

  5. वर्षा नालमे, अजमेर says:

    आप बहुत अच्छा लिखती हैं, पता ही नही था हमारे आसपास इतनी सुन्दर और historical जगह है. आप लोगो की मेहनत को नमन 💐😊

  6. संजय शर्मा, भोपाल says:

    बहुत बढ़िया लेखन

  7. दिनेश झाला, शाजापुर,(गंधर्वपुरी,) says:

    स्व डॉ काटजू पूर्व गृहमंत्री जी के द्वारा देवास जिले (गंधर्वपुरी)के पुरातत्व सम्बंधित योजनाओं में काफी रुचि ली गई थी,उन्ही के सपनो को आप साकार कर रही है।बहुत बहुत धन्यवाद, आभार।

  8. प्रदीप says:

    आपका यह लेख पढ़कर मन आनंदित हुआ। आप अपने आप मे एक शब्दावली हैं।मौलिकता और आलौकिकता से प्रतिबिंबित लेख………..

    1. Sangeeta Tripathi says:

      बहुत सुंदर जानकारी । ये हमारे पास ही है और हमें पता ही नही, !!
      दिशा, तुम्हारी लेखनी का तो जवाब ही नहीं । बस थोड़ा छोटा लिखा कर बहन, बहुत देर लगती है पढ़ने में 🙏😄😄

  9. जीतेन्द्र सिंह ठाकुर, तालोद says:

    देव बल्डा के ऊपर आपके द्वारा परमार कालीन मन्दिरो के ऊपर जो लेख लिखा गया वह भारतीय संस्कृति को युवा पीढ़ी के लिए प्रेरणास्रोत जैसा कार्य किया जा रहा है वह सरहानी योग्य हैं.

  10. नारायण व्यास , भोपाल says:

    आपका लेख देखा। बहुत सुँदर लिखा है। देवबल्डा नाम से ऐसा लगता है कहीं आसपास बौद्ध स्थल या स्तूप के अवशेष होना चाहिए।

  11. Mahendra Singh Jat says:

    आपकी अविरल यात्रा और अथक परिश्रम ही हमें ऐसे अनजान स्थलों की जानकारी हमें सुलभ रूप से प्रदान होती है ! धन्यवाद

  12. G.P. Singh Chauhan says:

    दिशा मैडम का एक महत्वपूर्ण प्रयास है कि देवबल्ड़ा के ऊपर उनके द्वारा इस कार्यक्रम में बहुत ही अच्छी जानकारी और सटीक जानकारी दी गई है और हमारे विभाग द्वारा यहां जो कार्य किया जा रहा है उसका इससे अच्छा प्रचार-प्रसार और नहीं हो सकता है और मैं मैडम जी को बहुत-बहुत धन्यवाद देता हूं और उनका आभार प्रकट करता हूं कि देवरा के इस शिव मंदिर एवं देवलाल धाम को प्रचारित करने के लिए बहुत सुंदर ढंग से आपके द्वारा यह अपना कार्यक्रम प्रस्तुत किया गया है धन्यवाद

  13. बालकृष्ण लोखण्डे, भोपाल says:

    प्राचीनतम से चली आ रही परंपरागतो /किवंदंतियों पर शोधपूर्ण आलेखों को आप अपने तत्समय के चरितार्थ को मनीषियों के मंथन की बात निराली परंतु तथाकथित जनसामान्य मे उनका महत्त्व परोसकर सब जीवंत करने की कला आपके शोधो से परिपक्वता से झलकना नहींबहतो को विमर्श हेतु बाध्यकारी होती है कि अगला अंक क्या उजागर कर रहा हैं। साभार धन्यवाद जी।🙏🏻

  14. Manju Yadav, Ujjain says:

    Nice field work👌🏻👌🏻🙏🏻🙏🏻

  15. O P Misra , Tagore National Fellow , I I G N C A , DELHI . says:

    Dear bahan ji , 
    thank you for the excellent research work like senior prof. of archaeology.. As on the report for the field work you have completed the geological, historical , anthropological, art architecture of the malwa region .regarding the interviews of the sri tej singh sandhav , he ig the original field worker and did his ph.d. on the area covered by you . he gave the detailed informations, as an archaeologist dr. ramesh yadava of the state archaeology, he deserves thanks for wonderful work for deobadla. he is the scholar who has taken keen interest to highlight the temples and sculptures  in his leadership . i personally give him thanks for his devotion and scholarship, thanks to you for recording his views .limaye ji gave the information about this religious cultures anf folk literatures based .for recording the music and folk song which is now missing from the society  for wich the persons who took kenn interest to sho the religious worship is wonderful. they must be given thanks .i must not give give any comments as no remaks needed being a press man you have taken task to highlight the treasures of this region  of malwa of madhya pradesh…group of temple of deobdla was a center for  the hindu , gods and goddesses. this was the seat during the paramara rulers . once again congretulations to you and those who gave you the time for recording the road dairy.thanks .  

  16. जगदीश भावसार शाजापुर says:

    अत्यंत आनंददायक प्रस्तुति बहुत-बहुत प्रासंगिक बधाई ✌️

  17. डॉ एम सी शाण्डिल्य says:

    सादर प्रणाम
    अति सुन्दर

  18. बंशीधर बंधु, शुजालपुर मंडी says:

    आपकी देवबल्ड़ा डायरी में पुरातात्विक, सामाजिक, ऐतिहासिक अनछुए पहलुओं को छुआ गया है। आर्तियों और विद्वजनों के साक्षात्कारों ने आपकी यात्रा डायरी में चार चांद लगा दिए हैं।
    हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएं!

  19. वीरेन्द्र सिंह, ग़ाज़ीपुर says:

    आपका का सिद्धिपुर आज के सिहोर जिले की देवबल्डा के श्रृंखलाबद्ध हजारों सालों के प्राचीन शैव मंदिर और और अनगिनत जैन मंदिरों जिसको मलेच्छो द्वारा कितने निर्ममता से ध्वस्त कर यहाँ के संस्कृति व गौरव को समाप्त करने का प्रयास किया गया पर वो आज फिर सरकार का प्रयास द्वारा पुनः स्थापित करना अपने आप में बहुत ही सराहनीय प्रयास है ।इसका जितना भी प्रशंसा की जाये कम है इन मंदिरों के भग्नावशेषों को देखने से कोई सहज ही अनुमान लगा सकता है कि किसी समय ये क्षेत्र भारत की सनातन संस्कृति के साथ साथ जैन पंथीयो का कितना बड़ा केन्द्र रहा होगा और यदि जैसा कि आपने बताया और वहां के फोटो मे दिख रहा है उन प्रस्तर भग्नावशेषों से दिखाई दे रहा है यदि पुनः उन मंदिरों को जीवित किया जा सके आने वाले समय में ये क्षेत्र फिर से सनातनीयो के लिए बहुत बड़ा केन्द्र हो सकता है और साथ ही साथ ये भारत के लिये एक महान् तीर्थ व विश्व के लिये पर्यटन केंद्र के रूप में विश्व पटल पर उभर सकता है आप का लेख व तस्वीरें इतनी जीवंत व मार्मिक है कि जब तक मैंने इसे पूरी तरह से पढ़ नही लिया तब तक प्रति क्रिया देने का मन नहीं हुआ ।भगवान् शिव की इच्छा हुयीं तो ये सारे मंदिर पुनः अपने गौरव को अवश्य प्राप्त होगा ।

  20. डॉ के के त्रिवेदी, झाबुआ says:

    देवबल्डा का नैसर्गिक सौंदर्य एवं मूर्तिशिल्प इतना समृद्ध है.. आपके अप्रतीम आलेख का अवलोकन कर अभिभूत हो गया.. अदभुतचित्रण और सशक्त अभिव्यक्ति के लिए बधाई।

  21. जगदीश भावसार शाजापुर says:

    पुनः प्रस्तुत आलेख देवबल्डा संकुल का नया स्वरूप प्रदान करता नजर आ रहा है
    प्रसंग में निरंतरता के साथ-साथ विचारों में धैर्य तथा प्रस्तुति में प्राच्य स्थिति , पर्यावरण ,पर्यटन संरक्षण-संभावनाओं का लोकभाता प्रभाव सुस्पष्ट है
    आत्मीय अभिवादन

  22. बहुत सुन्दर । प्राचीन सांस्कृतिक विरासत को नयनरम्य दृश्यों के साथ प्रस्तुत किया है । हम आभारी हैं, आपका पुनः पुनः अभिनन्दन एवं शुभकामनाएँ ।।
    वसन्तकुमार भट्ट
    अहमदाबाद ( गुजरात )

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *